Hindi Diwas 2021: Know History

hindidiwas
hindidiwas

हिन्दी दिवस हर साल 14 सितंबर के दिन मनाया जाता है। पूरे विश्व में करीब 54 करोड़ लोग हिन्दी भाषा बोलते तथा पढ़ते हैं। हिन्दी भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक है। हिन्दी दुनिया में दूसरी सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा है।

हिन्दी दिवस हर साल 14 सितंबर के दिन मनाया जाता है। पूरे विश्व में करीब 54 करोड़ लोग हिन्दी भाषा बोलते तथा पढ़ते हैं। हिन्दी भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक है। हिन्दी दुनिया में दूसरी सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा है। हिंदी को राष्ट्रभाषा के तौर पर 14 सितंबर 1949 को अपनाया गया था। तब से इस दिन को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि भारत मे अधिकतर क्षेत्रों में ज्यादातर हिन्दी भाषा बोली जाती थी इसलिए हिन्दी को राजभाषा बनाने का निर्णय लिया गया।

hindidiwasa

1918 में  हिंदी को गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था। 2017 में विश्व आर्थिक मंच की गणना के अनुसार हिन्‍दी विश्व की दस शक्तिशाली भाषाओं में से एक है। भारत के अलावा मॉरीशस, फिजी, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद और टोबैगो और नेपाल भी ऐसे देश हैं जहां हिन्दी बोली और समझी जाती है। 

hindidiwasb

ओसियाना देश फिजी में तो यह राष्ट्रभाषा के रूप में बोली जाती है। आंकड़े बताते हैं, कि भारत में सबसे ज़्यादा पढ़ें जाने वाला समाचार पत्र की रैंकिंग में पहला, दूसरा और चौथा स्थान हिन्दी अख़बारों का ही है। दुनिया के 176 विश्वविद्यालयों में हिन्दी एक विषय के तौर पर पढ़ाई जाती है।

हिन्दी दिवस पर हिन्दी के प्रति लोगों को उत्साहित करने हेतु पुरस्कार समारोह भी आयोजित किया जाता है। जिसमें कार्य के दौरान अच्छी हिन्दी का उपयोग करने वाले को यह पुरस्कार दिया जाता है। हिंदी दिवस पर भारत के राष्ट्रपति दिल्ली में एक समारोह में लोगों को भाषा के प्रति उनके योगदान के लिए राष्ट्रभाषा कीर्ति पुरस्कार और राष्ट्रभाषा गौरव पुरस्कार प्रदान करते हैं। पुरस्कार के साथ विजेताओं को सम्मान के तौर पर एक लाख एक हज़ार रुपए दिए जाते है।

hindidiwasc

बोलने वालों की संख्या के अनुसार अंग्रेजी और चीनी भाषा के बाद हिन्दी भाषा पूरे दुनिया में तीसरी सबसे बड़ी भाषा है। लेकिन उसे अच्छी तरह से समझने, पढ़ने और लिखने वालों में यह संख्या बहुत ही कम है। यह और भी कम होती जा रही। इसके साथ ही हिन्दी भाषा पर अंग्रेजी के शब्दों का भी बहुत अधिक प्रभाव हुआ है और कई शब्द प्रचलन से हट गए और अंग्रेजी के शब्द ने उसकी जगह ले ली है। जिससे भविष्य में भाषा के विलुप्त होने की भी संभावना अधिक बढ़ गयी है।

hindidiwasd

इस दिन उन सभी से निवेदन किया जाता है कि वे अपने बोलचाल की भाषा में भी हिन्दी का ही उपयोग करें। इसके अलावा लोगों को अपने विचार आदि को हिन्दी में लिखने को भी कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *