World Animal Day 2021: Know History

Animaldayd
Animaldayd

प्रकृति के विविधता को बैलेंस रखने के लिए जानवरों का संरक्षण अत्यंत आवश्‍यक है। आज यानी 4 अक्टूबर को पूरे विश्व में विश्व पशु दिवस मनाया जाता है। यह दिन पशुओं की देखभाल तथा उनके संरक्षण के लिए समर्पित होता है।

प्रत्येक जानवर एक अनोखा संवेदनात्मक प्राणी है इसलिए वह संवेदना और सामाजिक न्याय पाने के भी योग्य है। किसी प्राकृतिक आपदा के समय भी इन जानवरों के प्रति दोयम दर्जे का व्यवहार किया जाता है और उनकी सुरक्षा के प्रति लापरवाही बरती जाती है जो गलत है। प्रकृति के विविधता को बैलेंस रखने के लिए जानवरों का संरक्षण अत्यंत आवश्‍यक है।

Animalday

आज 4 अक्टूबर को पूरे विश्व में ‘विश्व पशु दिवस’ मनाया जा रहा है। यह दिन पशुओं की देखभाल तथा उनके संरक्षण के लिए समर्पित होता है। इसको मनाने का मूल उद्देश्य विलुप्त हुए प्राणियों की रक्षा करना और मानव से उनके संबंधों को मजबूत करना है। इस दिन जानवरों के महान संरक्षक ‘सेंट फ्रांसिस’ का जन्मदिवस भी है।

Animaldaya

इस दिन को ‘एनिमल्‍स लवर्स डे’ के नाम से भी मनाया जाता है। इसे पहली बार साल 1925 में आयोजित किया गया था। इसके कार्यक्रम में 5,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया। 

साल 1931 में इटली में आयोजित अंतररार्ष्ट्रीय पशु संरक्षण सम्मेलन ने अंतररार्ष्ट्रीय पशु दिवस के रूप में 4 अक्टूबर को मनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया। यूनाइटेड नेशंस ने ‘पशु कल्याण पर एक सार्वभौम घोषणा’ के नियम व निर्देशों के अधीन अनेक अभियानों की शुरुआत की।

विश्व पशु दिवस में अब दुनिया भर के 70 से अधिक देशों में पशु संगठनों के 97 राजदूतों का एक नेटवर्क है, जिसे एनिमल्स एशिया फाउंडेशन नामक संस्था द्वारा चलाया जाता है। इस दिन पशुओं की गुणवत्‍ता में सुधार के लिए विश्‍व पशु कल्‍याण विभाग, जानवरों के उपचार और आश्रयों के लिए फंड जुटाता है।

Animaldayd

विश्व पशु दिवस के अवसर पर पूरे विश्व में कई जगह समारोहों का आयोजन किया जाता है। समारोहों में विलुप्त हो रहे पशुओं की रक्षा, जानवरों के प्रति वफादार, उनके प्रति संवेदनात्मक भाव रखने के लिए प्रेरित किया जाता है। क्‍योंकि पशु भी इंसानों की तरह जीने का हक रखते हैं। अक्‍सर किसी प्राक़तिक आपदा के दौरान अक्‍सर पशुओं को छोड़ दिया जाता है और उनकी मौत हो जाती है। इस दिन को मनाने का महत्‍व है कि इंसान की तरह जानवर भी हर हक पाने का हकदार है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *