Sun. Mar 3rd, 2024

Raksha Bandhan 2023 Date: क्या यह 30 अगस्त को मनाया जाएगा या 31 को? दूर कर लें तिथि का कंफ्यूजन

30 अगस्त को पूर्णिमा के साथ ही भद्रा काल आरंभ हो जाएगा। शास्त्रों में भद्रा काल में श्रावणी पर्व मनाने की अनुमति नहीं है. 30 अगस्त को भद्रा काल 09:02 तक रहेगा। इस समय के बाद ही राखी बांधना अधिक उपयुक्त होगा। राखी बांधने के लिए दोपहर का समय शुभ माना जाता है। इस प्रकार, 30 अगस्त के दिन भद्रा काल के कारण सुबह के समय में राखी बांधने का उचित मुहूर्त नहीं होगा। उस दिन रात्रि में ही राखी बांधने का समय है। 31 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा सुबह 07:05 तक है, इस समय भद्रा का प्रभाव नहीं होगा। इसलिए आप सुबह-सुबह भाई को राखी बांध सकते हैं। इस बार रक्षाबंधन का उत्सव 30 और 31 अगस्त को दो दिनों में मनाया जाएगा। भद्रा नक्षत्र के कारण, 30 अगस्त की रात्रि या 31 अगस्त की सुबह को उचित होगा।

 

Raksha Bandhan 2023 - तिथि ,इतिहास और महत्व
pic source : istockphoto

भाई और बहन के बीच का रिश्ता वास्तव में अद्वितीय होता है और इसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता। भाई-बहन के रिश्ते का महत्व अनोखा होता है और इसे दुनिया के हर कोने में महत्वपूर्ण माना जाता है। हालांकि, भारत इस रिश्ते को और भी महत्वपूर्ण बनाता है, क्योंकि यहां भाई-बहन के प्यार को समर्पित “रक्षा बंधन” नामक त्योहार है। रक्षा बंधन का त्योहार अब नजदीक आ रहा है। आइए जानते हैं कि हिंदी में रक्षा बंधन क्या होता है, इसे क्यों मनाया जाता है और इससे जुड़ी पूरी जानकारी। रक्षा बंधन के अर्थ को समझने के लिए अंत तक पढ़ें।

क्या है रक्षाबंधन ?

यह एक विशेष हिन्दू त्योहार है जो भारत और नेपाल जैसे देशों में भाई और बहन के प्यार के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। रक्षा बंधन का त्यौहार हिन्दू कैलेंडर के श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया  जाता है, जो आमतौर पर अगस्त महीने में ही आता है।  रक्षा बंधन का अर्थ क्या होता है? यह त्योहार दो शब्दों से मिलकर बना है, अर्थात् “रक्षा” और “बंधन।” संस्कृत शब्दावली के अनुसार, इसका अर्थ होता है “रक्षा का बंधन या गांठ” जहां “रक्षा” का अर्थ सुरक्षा है और “बंधन” बांधने की क्रिया को दर्शाता है। इसके साथ ही, यह त्योहार भाई-बहन के परम प्रेम का प्रतीक है, जिसका अर्थ केवल खून के रिश्तों से ही सीमित नहीं है। यह चाचे-भतीजे, चाची-भतीजी, बहन-भाभी आदि जैसे अन्य रिश्तों में भी प्रचलित रूप से मनाया जाता है।

रक्षा बंधन की शुरुआत कैसे हुई?

कहानियाँ 

१. भगवान कृष्ण और पांडवों की पत्नी द्रौपदी

रक्षा बंधन का आरंभ उस समय हुआ था जब भगवान कृष्ण ने गलती से सुदर्शन चक्र से अपनी उंगली काट ली थी। इससे वे घायल हो गए और पांडवों की पत्नी द्रौपदी को उन्हें देखकर दुख हुआ और उन्होंने तुरंत अपने वस्त्र का एक टुकड़ा फाड़ा और उनकी उंगली पर बांध दीया, ताकि उनका दर्द कम हो सके और खून न बहे। भगवान कृष्ण ने उनके भावनाओं के प्रति सम्मोहित होकर उनसे वादा किया कि वह उन्हें सभी कष्टों से बचाएंगे। इसे रक्षा सूत्र कहा गया। जैसा कि हम जानते हैं कि कौरवों ने उसे अपमानित करने की कोशिश की, लेकिन भगवान कृष्ण ने अपनी बहन को आशीर्वाद दिया और उसकी पहनी हुई साड़ी की लंबाई अनंत तक बनाई रखी। इस प्रकार, उनके भाई ने उन्हें सभी बुराइयों से बचाया – जैसा कि उन्होंने वादा किया था।

२. सिकंदर की पत्नी और हिंदू शत्रु पुत्र पुरु।

Raksha Bandhan 2023 - तिथि ,इतिहास और महत्व
pic credit : pintrest

सिकंदर और पुरु के बीच युद्ध के समय, सिकंदर की पत्नी ने पुरु के हाथ में राखी बांधकर उन्हें अपने मुंहबोले भाई के रूप में स्वीकार किया और युद्ध के समय उसने अपने पति सिकंदर को नहीं मारने का वचन लिया । पुरु ने भी इस लाज को समझते हुए सिकंदर को जीवनदान दिया ।

३.मृत्यु के देवता भगवान यम और यमुना नदी।

पौराणिक कथा के अनुसार, एक समय यमुना नदी ने भगवान यम की कलाई पर धागा बांधा था। उसके मन में यम को अपने भाई के रूप में मानने की भावना उत्पन्न हो गई थी। भगवान यम ने यमुना के इस प्रेम और विश्वास को  पुरस्कार देते हुए उसे अमरता का वरदान दिया, जो उसकी रक्षा के साथ-साथ उसे प्राप्त हुआ। इसके साथ ही, उन्होंने घोषित किया कि जो भाई अपनी बहन की सहायता करेगा, उसे दीर्घायु प्राप्त होगी।

रक्षा बंधन कैसे मनाया जाता है?

यह त्योहार भाई-बहन के लिए पसंदीदा है, जहां वे मजाक और प्यार में व्यस्त रहते हैं, और पूरा  परिवार एक साथ आकर खास पलों का आनंद लेता है। बदलते समय  के साथ, रक्षा बंधन को अब केवल भाई-बहन ही नहीं, बल्कि दोस्त और दूरके  रिश्तेदार भी इस त्यौहार को मानते। कई महिलाएं मंदिरों में जाती हैं और भगवान कृष्ण की मूर्ति पर धागे को बांधती हैं, आशा करती हैं और प्रार्थना करती हैं कि भगवान उन्हें कठिनाइयों और बुराइयों से बचाएं। रुचिकर बात यह है कि यह त्योहार अब किसी महिला द्वारा पुरुष को धागा बांधने तक ही सीमित नहीं रहा है। ऐसे भी कई लोग हैं जिनके पास भाई नहीं होते, लेकिन वे भी एक-दूसरे के हाथों में राखी बांधकर हमेशा प्यार और सुरक्षा का आश्वासन देते हैं! माता-पिता के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे अपने बच्चों को इन त्योहारों को पूरी उत्सुकता के साथ मनाने का महत्व समझाएं और इसकी महत्वपूर्ण भावना को कभी कम नहीं होने दें। ताकि जब वे दूर हों, उनके बीच बने भाई-बहन के रिश्ते और त्योहार की महत्वपूर्णता को बनाए रख सकें।

इस साल रक्षाबंधन के त्यौहार को और मजेदार बनाने के लिए Akshay Kumar की इस मूवी को ZEE5 पर  जरूर देखे। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *